You are currently viewing Debit Credit Card साइबर फ्रॉड कैसे होता है और इससे कैसे बचें?
Debit Credit Card साइबर फ्रॉड कैसे होता है और इससे कैसे बचें?

Debit Credit Card साइबर फ्रॉड कैसे होता है और इससे कैसे बचें?

आज के समय में शायद ही ऐसा कोई व्यक्ति हो जो कैश लेकर घूमना पसंद करें। आजकल लोग अपने पॉकेट में कैश रखने के बजाय debit credit card रखना ज्यादा पसंद करते हैं और पसंद हो भी क्यों न हो?

पैसे निकालने के लिए घंटो बैंकों में जाकर लाइन लगाने की झंझट से छुटकारा दिलाने में और समय की बचत करने में debit credit card बेहद ही कारगर होते हैं।

लेकिन debit credit card जितनी सुविधाजनक होती है, उसमें उतना ही फ्रॉड होने के खतरे भी बढ़ गए हैं। अगर आप सतर्क न रहे तो कभी भी आप Debit Credit Card Cyber fraud के शिकार हो सकते हैं। 

Examples of debit credit card frauds

आजकल अखबार में आए दिन आपको पढ़ने को मिल जाएगा कि फलाना व्यक्ति एटीएम मशीन से पैसे निकालने गया और पैसे निकालने के कुछ ही देर बाद उसके अकाउंट से मौजूद बाकी पैसे भी गायब हो गए।

इसके अलावा आपने यह भी पढ़ा होगा कि फलाना व्यक्ति रेस्तरां या शॉपिंग आउटलेट्स पर गया था, जहां bill payment करने के बाद, उसके account से शेष पैसे भी कट गए।

ये दोनों ही मामले debit credit card के जरिए होने वाली ठगी से जुड़े हैं। debit credit card fraud को कार्ड स्कीमिंग और क्लोनिंग के जरिए अंजाम दिया जाता है।

अगर आप क्रेडिट और डेबिट कार्ड के जरिए होने वाले फ्रॉड से बचना चाहते हैं तो आपको debit credit card fraud के तरीकों को समझने की जरूरत है।

क्रेडिट और डेबिट कार्ड फ्रॉड कैसे होते हैं | debit credit card fraud

Card Skimming क्या है?

इस तरह के फ्रॉड में अक्सर धोखेबाज एटीएम मशीनों में एटीएम के कार्ड स्लॉट में एक स्किमिंग डिवाइस इनस्टॉल करके रखते हैं। इस डिवाइस को आप Skimmer कह सकते हैं जो कि एक तरह का कार्ड रीडर होता है।

ऐसे में जब पैसे निकालने के लिए आप अपने कार्ड को ATM machine में Insert करते हैं। तब स्किमिंग डिवाइस आपके कार्ड को स्कैन कर लेता है और card से जुड़ी सभी डेटा को हैकर को ट्रांसफर कर देता है। बाद में हैकर इस डेटा का इस्तेमाल करके अकाउंट से पैसे उड़ा लेते हैं।

आपको बता दें, कार्ड स्कीमिंग सिर्फ एटीएम मशीनों में ही नहीं होती बल्कि चालाक किस्म के दुकानदार इसे स्वैप मशीनों में अटैच करके भी करते हैं।

ऐसे में जब कोई यूजर बिल पे करने के लिए कार्ड स्वैप करता है तो skimmer में उसका पासवर्ड और कार्ड से जुड़ी पूरी Detail सेव हो जाती है। बाद में दुकानदार ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के लिए यूजर की इन्हीं डिटेल्स का इस्तेमाल करते हैं।

Card Cloning क्या है? | debit card cloning

जैसा कि आप देख सकते हैं, Card Cloning, Card और Cloning जैसे दो शब्दों से मिलकर बना है। यहां Card का तात्पर्य, क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड से है और Cloning का तात्पर्य, नकल, कॉपी अथवा प्रतिरूपण से है।

इस प्रकार, Card Cloning का अर्थ है, Credit Card या Debit Card की नकल (duplicate)। नकल से आप समझ सकते हैं की यह बिल्कुल original card की तरह ही काम करेगा। कई बार हैकर, स्कीमर डिवाइस के जरिए डिटेल्स चोर करके डुप्लीकेट कार्ड बना लेते हैं।

दरअसल, होता यूं है कि जब आप अपने Credit Card या Debit Card को स्वाइप करते हैं तो उस दौरान कार्ड की मैगनेटिक स्ट्रिप पर मौजूद सारा डाटा स्कीमर डिवाइस में save हो जाता है, जिसके बाद बड़ी ही चालाकी से आपके डाटा का इस्तेमाल करके क्लोन कार्ड तैयार कर लेता है, जो कि लगभग ओरिजनल कार्ड की तरह ही काम करता है।

Credit Debit Card Details कैसे चुराई जाती है? | debit credit card scams

जैसा कि हम आपको ऊपर बता चुके हैं कि Credit Debit Card scams को Skimming और Card Cloning के जरिए अंजाम दिया जाता है। लेकिन यहां हम आपको बता दें, Skimming की प्रक्रिया दो चरणों में पूरी होती है –

सबसे पहले चरण में हैकर का उद्देश्य कार्ड की डिटेल्स हासिल करना होता है। इस काम के लिए वह Skimmer Device की मदद लेता है। Skimmer Device, ATM मशीन के Original Card reader से काफी मिलता-जुलता है। इसलिए, कोई भी व्यक्ति आसानी से debit credit card fraud का शिकार हो जाता है।

कोई भी व्यक्ति जब ATM मशीन में अपना कार्ड डालता है तो Skimmer Device, कार्ड की Magnetic Stripe में मौजूद जानकारी जैसे सीवीवी नंबर और एक्सपायरी डेट सेव कर लेता है। इस तरह कार्ड की सारी डिटेल्स हैकर के पास चली जाती है और कार्ड होल्डर को पता तक नहीं चलता।

दूसरे चरण में हैकर का उद्देश्य कार्ड के PIN नम्बर को हासिल करना होता है। अपने इस काम को अंजाम देने के लिए हैकर Spy Camera का use करते हैं।

हैकर कैमरे का पूरा सेटअप Keypad के बिल्कुल उपर या फिर मॉनिटर के उपरी भाग की पट्टी पर लगा देता है। ताकि एटीएम यूजर जो भी PIN नम्बर दबाए, वह साफ-साफ camera में रिकॉर्ड हो सके।

PIN नम्बर चुराने के लिए हैकर कई बार एक अन्य तरीके का भी इस्तेमाल करते हैं। इसमें वह ATM या POS Machine के Keypad पर एक नकली कीपैड (Overlay Keypad) लगा देते हैं जो कि बिल्कुल ऑरिजनल कीपैड जैसा ही नजर आता है। ऐसे में जब कोई यूजर इस नकली कीपैड पर अपना PIN एंटर करता है, तो यह नकली कीपैड उस PIN को Read कर लेता है।

इस तरह हैकर कार्ड डिटेल्स के साथ-साथ user के debit credit card PIN नम्बर भी हासिल कर लेता है। हैकर कार्ड डिटेल्स और PIN नम्बर मिलने के बाद Card Cloning के जरिए Duplicate Card बनाकर बिना किसी को खबर लगे बैंक अकाउंट से सारे पैसे उड़ा देता है।

जानिए क्या है, डेबिट-क्रेडिट कार्ड फ्रॉड से बचने का तरीका

अगर आप debit credit card cyber fraud से बचना चाहते हैं तो आपको debit credit card का इस्तेमाल करते वक्त सतर्क रहने की जरूरत है।

आपको debit credit card का इस्तेमाल करते वक्त निम्न बातों का ध्यान रखना होगा –

Check ATM Machine

जब भी आप ATM Machine से पैसे निकालने जाएं तो आप अपना debit credit card ATM Machine में Insert करने से पहले Machine को check करें कि ATM Machine के साथ कोई छेड़छाड़ तो नहीं हुई है? किसी भी प्रकार का संदेह होने पर आप उस ATM Machine का इस्तेमाल न करें।

Check Card Reader

किसी भी ATM Machine का इस्तेमाल करने से पहले आप Card Reader जरूर Check कीजिए। संदेह होने पर आप कार्ड रीडर को खींचकर देखें। हैकर Card Reader पर Skimmer Device लगाए होते हैं। ऐसी स्थिती में Card Reader को खींचने पर Skimmer Device उखड़कर हाथ में आ जाएगा।

Check Keypad

ATM Machine में पिन नम्बर Enter करने से पहले आप कीपैड भी जरूर चेक कीजिए। अगर आपको कीपैड उभरा हुआ या मशीन की तुलना में नया लग रहा है तो आप PIN नम्बर न डालें और ऐसी स्थिती में आप कीपैड को साइड से ऊपर की तरफ खींचे। अगर कीपैड duplicate होगा तो वह आसानी से बाहर निकल आएगा।

Hide Your PIN

जब भी आप किसी ATM Machine में जाएं तो वहां अपना अपने Credit Debit Card का PIN नम्बर दर्ज करते वक्त जरुर सतर्क रहें कि कहीं कोई आपका PIN नम्बर देख न ले। आप PIN नम्बर दर्ज करते वक्त अपने दूसरे हाथ से ढ़क लीजिए। यदी आपके आस-पास कहीं कोई कैमरा भी लगा होगा तो उसमें आपका PIN Number रिकॉर्ड नहीं होगा।

सूने ATM से सावधान

आमतौर पर हैकर्स की निशाने पर सुनसान ATM होते हैं। यहां सुनसान का तात्पर्य बिना गार्ड वाले एटीएम से है। क्योंकि यहां वो आराम से स्किमर और कैमरा इंस्टॉल कर सकते हैं। इसीलिए, आप कोशिश करें कि बिना गार्ड वाले एटीएम में न जाएं।

Always Check Busy ATMs

कुछ शातिर किस्म के हैकर भीड़भाड़ वाले एटीएम को अपना निशाना बनाते हैं और इसकी वजह यह होती है कि जिन ATMs में भीड़ अधिक होती है वहां लोग ATM Machine पर विशेष ध्यान नहीं देते हैं। इसीलिए आप जब भी किसी भीड़ वाले एटीएम में जाएं तो सतर्क रहें और एटीएम मशीन को चेक करना ना भूलें। अगर आपको जरा सा भी संदेह हो तो आप ATM यूज न करें।

अपना कार्ड किसी को न दें

कई बार आपको ATM room में बिना मांगे मदद करने वाले लोग मिल जाएंगे। ऐसे लोगों से आपको सतर्क रहने की जरूरत है। आप ऐसे किसी भी अनजान व्यक्ति बिना अपना कार्ड न दें और न ही उन्हें ATM PIN बताएं। क्योंकि ऐसे व्यक्ति जालसाज हो सकते हैं जो अपने हाथ में या कपड़ों के नीचे Skimmer Device छुपाएं रहते हैं और जैसे ही आपका कार्ड इनके हाथों में गया, चालाकी से कार्ड को Swipe करके Details चुरा लेते हैं।

Check POS Machine

Hotels Malls में भी आजकल Credit Debit Card scams के मामले बढ़ गए हैं। इसलिए जब भी आप किसी होटल या फिर मॉल में Credit या Debit Card से Payment करें तो वहां अपना PIN खुद डालें। इतना ही नहीं PIN डालते समय आप POS मशीन का Keypad भी चेक कर लीजिए।

अगर कीपैड सामान्य से बड़ा, उभरा हुआ या ढीला दिखाई दे, तो आप सतर्क हो जाइए और Keypad को उपर उठाकर देखिए। अगर कीपैड बाहर निकल आता है तो आप तुरंत पुलिस को इनफॉर्म कीजिए।

फर्जी फोन कॉलस

आज कल फर्जी फोन कॉलस के जरिए धोखाधड़ी के मामले बढ़ गए हैं। फर्जी फोन कॉलस करने वाले हैकर खुद को बैंक मैनेजर बताता है। और वह आपसे आपके अकाउंट को सिक्योर रखने के लिए आपका कार्ड पिन पूछता है। ऐसे में आप गलती से भी अपनी पिन डिटेल्स या अपने bank account details शेयर न करें और तुरंत फर्जी फोन कॉल की रिपोर्ट करें।

डेबिट/ क्रेडिट कार्ड फ्रॉड; कहां करें शिकायत, कैसे वापस मिलेगा पैसा?

अक्सर जब लोग Credit Debit Card scams के शिकार हो जाते हैं तो वे समझ ही नहीं पाते हैं कि इसकी शिकायत कहां दर्ज करें।

तो आपकों हम बता दें, अब आप भारतीय cyber crime complaint number पर कॉल करके साइबर अपराधों के संबंध में शिकायत मामलों की रिपोर्ट कर सकते हैं, जिसमें ऑनलाइन  ई-मेल से संबंधित अपराध शामिल हैं, जैसे स्पूफिंग, बम विस्फोट, धमकी भरे ई-मेल भेजना, मानहानिकारक मेल और धोखाधड़ी, फ़िशिंग हमले (उपयोगकर्ता आईडी जैसी संवेदनशील जानकारी का आपराधिक अधिग्रहण)  क्रेडिट कार्ड घोटाले, आदि) कंपनियों पर सॉफ्टवेयर चोरी एसएमएस हैकिंग मोबाइल की क्लोनिंग आदि शामिल हैं।

यहां हमने आपकी सुविधा के लिए नीचे भारतीय साइबर अपराध कस्टमर केयर नंबर दिए हैं, जिस पर कॉल करके आप अपने Credit Debit Card scams की शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

Indian cyber crime phone number : 1800 209 6789

cyber crime complaint online

जैसा कि ऊपर हम आपको बता चुके हैं कि डेबिट/क्रेडिट कार्ड फ्रॉड को cyber crime के अंतर्गत शामिल किया गया है। ऐसे में अगर आप चाहें तो आप ऑनलाइन भी साइबर अपराध की शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

देश में बढ़ते हुए साइबर अपराध के मामले को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्रालय ने एक वेबसाइट लांच की है, जिसका नाम है – cybercrime.gov.in

इस  वेबसाइट को साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल नाम दिया गया है। आप इस पर जाकर साइबर अपराध, डेबिट/ क्रेडिट कार्ड फ्रॉड, ठगी, चाइल्ड पोर्नोग्राफी और रेप जैसी घटनाओं की शिकायतें दर्ज करा सकते हैं।

आपके द्वारा इस वेबसाइट पर किसी अपराध की ऑनलाइन शिकायत के बाद, इस मामले के जांच के लिए गृह मंत्रालय से आदेश प्रदेश पुलिस को भेजा जाएगा। जिसके बाद पुलिस को इस मामले को गंभीरता से लेना होगा, क्योंकि खुद गृह मंत्रालय इस केस पर नजर रखेगा।

www.cybercrime.gov in hindi पर ऐसे करें ऑनलाइन शिकायत

cybercrime.gov.in पर ऑनलाइन शिकायत दर्ज करने के लिए आप सबसे पहले अपने search engine में cybercrime.gov.in search करें। अब आप डायरेक्ट उस वेबसाइट पर पहुंच जायेंगे। जहां आप शिकायत दर्ज करें।

वेबसाइट पर शिकायत दर्ज करने के बाद आपको यहां एक नंबर मिलेगा। आप इस नंबर के की सहायता से आपके द्वारा की गई शिकायत पर क्या कार्रवाई हुई, इसे ट्रैक कर सकते हैं।

आपके द्वारा की गई शिकायत को ट्रैक करने के लिए आपको वेबसाइट पर मौजूद रिपोर्ट एंड ट्रैक बटन पर क्लिक करना होगा।

online money fraud complaint india

online money fraud का शिकार होने पर लोग जानकारी के अभाव में सही समय पर और सही जगह पर अपने साथ हुए फ्रॉड की शिकायत नहीं कर पाते हैं।

अगर आप भी online money fraud का शिकार हुए हैं तो आपको हम बता दें, गृह मंत्रालय और दिल्ली पुलिस की साइबर सेल ने एक हेल्पलाइन नंबर शुरू किया है।

यदि आप किसी भी तरह के ऑनलाइन फ्रॉड के शिकार होते हैं तो आप बिना देर किए तुरंत इस नंबर पर कॉल करें। यह हेल्पलाइन नंबर 24 घंटे और सातों दिन उपलब्ध है।

online money fraud complaint number – 155260

debit credit card cyber fraud होने पर कैसे पैसा वापस मिलेगा?

debit credit card cyber fraud होने के बाद लोगों के मन में सबसे पहला सवाल यह उठता है कि उन्हें उनका पैसा कैसे वापस मिलेगा?

Banks के द्वारा अपने कस्टमर्स के लिए साइबर फ्रॉड के मद्देनजर इंश्योरेंस पॉलिसी कराई जाती है। जब आप अपने साथ हुए fraud की जानकारी अपने बैंक को देते हैं तो बैंक आपके साथ हुए फ्रॉड की सारी जानकारी सीधे इंश्योरेंस कंपनी को बताएगा और फिर वहां से बैंक इंश्योरेंस के पैसे लेकर आपके नुकसान की भरपाई करेगा।

आजकल इंश्योरेंस कंपनियां भी साइबर फ्रॉड से बचने के लिए लोगों को direct कवरेज दे रही हैं।

3 दिन के अंदर करें शिकायत

RBI के द्वारा या निर्देश दिया गया है कि अगर आपके बैंक खाते से अवैध रुप से amount निकाली गई है तो आप इसकी सूचना 3 दिन के अंदर ही बैंक को दें। अगर आप ऐसा करते हैं तो आपको किसी प्रकार का नुकसान नहीं उठाना पड़ेगा।

RBI ने यह भी निर्देश दिया गया है कि अगर ग्राहक निर्धारित समय के अंदर बैंक को सूचना देता है तो Banking Fraud करके निकाली गई रकम ग्राहक के bank account में 10 दिन के अंदर वापस आ जाएगी।

लेकिन यदि ग्राहक बैंक खाते से हुई धोखाधड़ी की रिपोर्ट बैंक में 4-7 दिन के बाद करते हैं , तो ग्राहक को 25,000 रुपए तक का नुकसान खुद उठाना होगा।

आज आपने क्या सीखा?

हमारा आज का आर्टिकल “Debit Credit Card साइबर फ्रॉड कैसे होता है और इससे कैसे बचें?” से संबंधित था। जहां हमने Examples of debit card frauds, क्रेडिट और डेबिट कार्ड से कैसे होते हैं फ्रॉड, Credit Debit Card Details कैसे चुराई जाती है?, डेबिट-क्रेडिट कार्ड फ्रॉड से बचने का तरीका, डेबिट/ क्रेडिट कार्ड फ्रॉड; कहां करें शिकायत आदि के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी दी है।

हमें उम्मीद है कि हमारा आज का आर्टिकल Debit Credit Card साइबर फ्रॉड कैसे होता है और इससे कैसे बचें? आपके लिए उपयोगी साबित होगा।

यदि हमारे आर्टिकल से आपको लाभ हुआ हो तो इसे अपने सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर जरूर शेयर करें। ताकि अन्य लोग भी debit credit card cyber fraud से बच सकें।

This Post Has One Comment

Leave a Reply