You are currently viewing Domain name क्या है और कितने प्रकार के होते हैं ?
Domain name क्या है और कितने प्रकार के होते हैं ?

Domain name क्या है और कितने प्रकार के होते हैं ?

अगर आप वेबसाइट या फिर एक ब्लॉग बनाने की सोच रहे हैं तो आपके लिए यह जानना बेहद जरूरी हो जाता है कि Domain name क्या है और Domain name कितने प्रकार के होते हैं?

जब भी आप Internet में किसी website को search करते हैं तब आप डोमेन नेम की सहायता से ही उस वेबसाइट तक पहुंच पाते हैं।

आपको बता दें, Internet पर प्रत्येक वेबसाइट का डोमेन नेम अलग अलग होता है जिससे वह वेबसाइट की अलग पहचान को निर्धारित करता है।

सरल शब्दों में समझा जाए तो अगर आपकी कोई वेबसाइट है तो उसका नाम भी जरूर होगा। वेबसाइट के नाम को ही Domain name कहा जाता है।

या फिर आप ऐसे समझ लीजिए इंटरनेट पर वेबसाइट को खोजने के लिए जिस नाम का प्रयोग किया जाता है उसे ही डोमेन नेम कहा जाता है। वेबसाइट का डोमेन नेम अक्षरों या आप चाहें तो संख्याओं के संयोजन से बना सकते हैं।

आइए, Domain name के बारे में और विस्तार पूर्वक जानकारी हासिल किया जाए।

Contents

What is Domain name in Hindi? / डोमेन नाम क्या है?

Domain Name जिसे DNS भी कहा जाता है और DNS की फुल फॉर्म Domain Name System है। यह एक ऐसा सिस्टम होता है जो वेबसाइट के नामकरण को निर्धारित कर उसके पहचान को अन्य वेबसाइट से अलग दर्शाता है।

सरल शब्दों में समझा जाए तो आपकी वेबसाइट के नाम को ही Domain name कहा जाता है। जैसे हमारी वेबसाईट का नाम “thereviewer.in” है तो “thereviewer” हमारा डोमेन नेम हुआ। 

Domain name or IP Address का क्या सम्बन्ध है?

आपको बता दें, प्रत्येक डोमेन नेम को एक code से कनेक्ट किया जाता है, जिसे IP Address कहा जाता है। IP Address की फुल फॉर्म Internet Protocol Address होती है।

डोमेन नेम को IP Address से connect करने के बाद जब हम अपने वेब ब्राउजर में उस वेबसाइट के डोमेन नेम को सर्च करते हैं तभी हम उस website को visit  कर पाते हैं।

अगर आप चाहें तो डोमेन नेम न डालकर वेब ब्राउजर में direct code (IP Address) को भी search करके website को visit कर सकते हैं, लेकिन बहुत सारे code को एक साथ याद रखना कठिन होता है इसलिए, code के स्थान पर Domain Name को याद रखा जा सकता है।

आइए, उदाहरण से समझते हैं – आप सभी Google से तो परीचित ही होंगे।  Google वेबसाइट का डोमेन नाम “Google.com” है और अगर बात करें इसके IP Address की तो वह “172.217.168.238” है।

अब आप चाहें तो डोमेन नाम या फिर आप चाहें तो IP Address दोनों में से किसी का भी उपयोग करके आप Google की वेबसाइट पर जा सकते हैं।

डोमेन नेम के प्रकार / Types of Domain Names

डोमेन नेम 4 प्रकार के होते हैं –

1. TLD (Top Level Domain)

2. CcTLD (Country Code Top Level Domain)

3. Second Level Domain

4. Third Level Domain

TLD (Top Level Domain)

अगर आप कोई website या blog बनाने की सोच रहे हैं तो आप Top Level Domain (TLD) का इस्तेमाल करें। इससे website को run करवाने में आसानी होती है।

Top Level Domain (TLD) कई तरह के होते हैं। यहां हम आपको कुछ Top Level Domain (TLD) के बारे में बताएंगे, जो web development के field में  करियर बनाने के लिए best माने जाते हैं –

  • .com (Commercial site)
  • .name (Name site)
  • .net (Network site)
  • .info (Information site)
  • .gov (Government site)
  • .biz (Business site)
  • .org (Organization site)
  • .edu (Education site)

Country Code Top Level Domain Name (CcTLD)

Country Code Top Level Domain एक particular country के लिए होता है। ऐसे में जितने भी country हैं, उन सभी countries के लिए अलग-अलग separate Domain name होता है।

ये separate Domain, Country code के हिसाब से होते हैं। जैसे India के लिए जो separate domain name है वह है “.in” और United state के लिए “.us”

आपको बता दें, जब आप किसी .in domain वाले किसी website के कोई article को public करेंगे तब वह article किसी भी अन्य country में rank न करके सिर्फ India के अन्दर rank करेगा। ऐसा इसलिए, .in domain, India का separate domain name है।

आइए जानते हैं, कुछ country के separate domain name के बारे में

  • .us – United state
  • .br – Brazil
  • .in – India
  • .cn – China
  • .ru – Russia
  • .ch – Switzerland

Second Level Domain Name

Domain name के पहले आने वाले website के नाम को Second Level Domain name कहा जाता है। जैसे Google.com यहां .com को Top Level Domain name कहा जाता है और Google को second level domain name कहा गया है।

Third Level Domain Name

आपको कई सारे वेबसाइट ऐसे देखने को मिल जाएंगे जिसके second level domain name के पहले एक और domain name देखने को मिल जाता है, इसे ही Third Level Domain name कहा जाता है।

आइए समझते हैं, अगर Google.com के पहले आपको hindi.google.com जैसा लिखा दिखे तो इसमें hindi कहलाएगा Third Level Domain name.

Top Level Domain Name (TLD) कहां से खरीदें?

अगर आप एक वेबसाइट या ब्लॉग बनाने की सोच रहे हैं और आप Top Level Domain Name खरीदना चाहते हैं तो आपको परेशान होने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है।

यहां हम आपको कुछ best companies के नाम बताएंगे जहां से आप top level domain name (TLD) खरीद सकते हैं।

  • Bigrock
  • Znetlive
  • Com
  • Eweb Guru
  • Godaddy
  • Ipage
  • 1and1
  • In
  • Namecheap

Domain Name Purchase करने के बाद क्या करें?

इस article में ऊपर बताए गए Type Of Domain Name को ध्यान में रखते हुए आप डोमेन नेम Purchase करें।

अपने website या blog के लिए डोमेन नेम Purchase करने के बाद आपको उसे web server के साथ connect करना होगा।

आपको बता दें, जितने भी websites हैं, उन्हें internet में जगह देने का काम web server में किया जाता है। इसी के जरिए पूरी दुनिया में किसी भी वेबसाइट को access किया जाता है। इसे वेब होस्टिंग भी कहा जाता है।

ऐसी बहुत सी कम्पनियां मिल जाएंगी जो Web hosting की सेवा को प्रदान करती हैं। उनमें से कुछ कम्पनियों के नाम हम आपको यहां बताएंगे –

  • Hostinger
  • Siteground
  • Godaddy
  • Hostgator
  • Bluehost

Domain Name को Web Hosting से Connect कैसे करें? |How to connect domain with web hosting

चाहे किसी भी कम्पनी का डोमेन नेम हो उसे Web hosting से कनेक्ट करने का तरीका समान होता है।

आप चाहें तो किसी और कंपनी से खरीदे हुए डोमेन नेम को किसी दूसरी कंपनी के hosting से कनेक्ट कर सकते हैं इसका भी तरीका समान होता है।

आइए जानते हैं, Domain Name को Hosting से Connect करने का step by step तरीका-:

  • Step-1 : आप सबसे पहले अपने Web hosting के cPanel में लॉगिन करें और इसके बाद “Manage” बटन पर क्लिक करें। 
how-connect-Domain-Name-Web-Hosting
Domain Name को Web Hosting से कैसे Connect करें

 

  • Step-2 :  Manage बटन पर क्लिक करने के बाद आप “Dashboard” पर क्लिक करें।
how-connect-Domain-Name-Web-Hosting
Domain Name को Web Hosting से कैसे Connect करें

 

  • Step-3 : Dashboard पर क्लिक करने पर आपको बायीं तरफ “Accounts” का ऑप्शन दिखाई देगा। “Accounts” पर क्लिक करने के बाद आप “Details” पर क्लिक करें। 
Domain-Name-को-Web-Hosting-से-कैसे-Connect-करे
Domain Name को Web Hosting से कैसे Connect करें

 

  • Step-4 : “Accounts” पर क्लिक करने पर आपको “Nameservers” दिखाई देंगे। फिर आप इन “Nameservers” को कॉपी करें। 
Domain-Name-को-Web-Hosting-से-कैसे-Connect-करे
Domain Name को Web Hosting से कैसे Connect करें

 

  • Step-5 : “Nameservers” को कॉपी करने के बाद अब आप GoDaddy या जिस भी कंपनी से आपने डोमेन नेम खरीदा है, उसके अकाउंट पर जाकर लॉगिन करें, लॉगिन करने के बाद आपको “My Products” टैब में अपने सभी domains दिखाई देंगे।
    godaddy-Domain-Name-को-Web-Hosting-से-कैसे-Connect-करे
    Domain Name को Web Hosting से कैसे Connect करें

     

  • Step-6 : इसके बाद जिस भी डोमेन को आपको अपनी वेब होस्टिंग से कनेक्ट करना हो उसके सामने दिए गए “DNS” बटन को क्लिक करें।
godaddy-Domain-Name-को-Web-Hosting-से-कैसे-Connect-करे
Domain Name को Web Hosting से कैसे Connect करें

 

  • Step-7 : “DNS” बटन पर क्लिक करने के बाद आपको next page पर अपने domain के Nameservers दिखाई देंगे। इसके बाद आपको “Change” ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
godaddy-Domain-Name-को-Web-Hosting-से-कैसे-Connect-करे
Domain Name को nameservers की मदद Web Hosting से कैसे Connect करें

 

  • Step-8 : Change ऑप्शन पर क्लिक करने के बाद आपने जो Nameservers अपने web hosting के cPanel से कॉपी किए थे, उन दोनों Nameservers को एक-एक करके यहाँ पेस्ट (paste, Microsoft Windows Shortcut Key Ctrl + V) कर दें।
godaddy-Domain-Name-को-Web-Hosting-से-कैसे-Connect-करे
Domain Name को nameservers की मदद Web Hosting से कैसे Connect करें

 

  • Step-9 : Nameservers को पेस्ट करने के बाद आप “Save” बटन पर क्लिक कर दें। 
godaddy-Domain-Name-को-Web-Hosting-से-कैसे-Connect-करे
Domain Name को nameservers की मदद Web Hosting से कैसे Connect करें

 

  • Step-10 : “Save” बटन पर क्लिक करते ही आपका domain name और hosting कनेक्ट हो जायेगा। कभी कभी इसमें थोड़ा समय भी लगता है इसलिए आप थोड़ा इंतजार कर लें।

कैसे चेक करें Domain Name और Hosting कनेक्ट हुआ है या नहीं?

domain name और hosting कनेक्ट करने की प्रक्रिया पूरी करने के बाद यह चेक करना आवश्यक हो जाता है कि हमारा Domain Name और Hosting कनेक्ट हुआ है या नहीं?

ऐसे में आप whatsmydns.net नामक ऑनलाइन टूल की मदद से आसानी से पता कर सकते हैं कि आपका Domain Name और Hosting कनेक्ट हुआ है या नहीं।

आप इसके लिए whatsmydns.net पर जाकर अपना डोमेन नेम बॉक्स में enter करें।

अब आप “A” को सिलेक्ट करें। सिलेक्ट करते ही आपको नीचे सभी देश के लिए डाले गए records स्पष्ट दिखाई देंगे। जिसका मतलब है कि आपका Domain Name और Hosting कनेक्ट हो गया है।

Domain-Name- और-Hosting-connect-हुआ-या -नहीं
Global DNS Propagation Checker

 

लेकिन अगर आपको किसी देश के सामने खाली बॉक्स या फिर पुराना records दिखाई देता है तो इसका मतलब है कि अभी तक आपका डोमेन नेम और hosting से कनेक्ट नहीं हुआ है।

FAQs (Domain Name को Hosting से Connect करने के सम्बन्ध में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न)

1. Domain Name और Hosting को Connect होने में कितना समय लगता है?

ऊपर जो method हमने आपको बताया है उसकी मदद से आप सिर्फ 5 मिनट के अंदर ही आप अपने Domain Name और Hosting को कनेक्ट कर लेंगे।

लेकिन कई बार सेटिंग्स को सेट होने में थोड़ा समय लगता है ऐसी स्थिती में कई बार तो यह आधे घंटे में ही सेट हो जाता है और कई बार तो 24 घंटे तक का समय लग जाता है।

2. Hosting और Domain खरीदने के कितने पैसे लगते हैं  या domain और hosting का approx price कितना है?

किसी भी website या blog के लिए डोमेन खरीदने का खर्च  लगभग 99 से लेकर ₹999 तक आ सकता है। इसमें पैसे डोमेन Extension पर निर्भर करते हैं।

अगर आप .com लेते हैं तो इसके लिए आपको अधिक  पैसे खर्च करने पड़ सकते हैं। वहीं अगर आप .in, .info, .org लेते हैं तो आपको कम पैसे खर्च करने पड़ेंगे। आप डोमेन खरीदने के लिए GoDaddy का इस्तेमाल कर  सकते हैं।

डोमेन के बाद बारी आती है Hosting की। Hosting के लिए आपको Domain से थोड़ा ज्यादा पैसे खर्च करने पड़ेंगे।

सिर्फ साल भर की होस्टिंग को खरीदने के लिए आपको कम से कम 1000/- रूपये से लेकर 6000/- रूपये का खर्च करने पड़ सकते हैं।

आप अपनी वेबसाइट या ब्लॉग के लिए Hostinger या A2 Hosting ले सकते हैं। यह Hosting आपको अन्य होस्टिंग कंपनी के मुकाबले सस्ती पड़ेगी और यह काफी फास्ट भी है जिससे आपकी Website Loading Speed काफी बढ़ जाएगी।

3. Blogging के लिए domain name buy करना जरूरी है क्या?

अगर आप blogging के फील्ड में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो blogging के लिए एक unique डोमेन नेम जरूर खरीदें।

लेकिन आप बिना डोमेन खरीदे भी https://www.blogger.com/ या https://wordpress.com/ जैसी वेबसाईट से बिना पैसे खर्च किए blogging शुरू कर सकते हैं। 

कोई भी blog या website हो डोमेन नेम उसकी पहचान होती है। आप हमेशा एक unique domain name को ही buy करें।

आपका डोमेन नेम ऐसा होना चाहिए कि सिर्फ एक बार देखने से ही याद हो जाए। unique domain name से वेबसाइट पर traffic अधिक आती है साथ ही वह पॉपुलर भी जल्दी होता है।

4. फ्री डोमेन अथॉरिटी टूल कौन सा है?

अगर आप free में अपने website की Domain Authority को चेक करना चाहते है तो आप इसके लिए  https://ahrefs.com/ या https://smallseotools.com/  या फिर https://neilpatel.com/ubersuggest/ पर जाएं।

5. Domain registration कैसे होता है या Domain Name कैसे खरीदें (How To Buy A Domain Name)

Step 1: वेबसाइट (Godaddy.com) को विजिट करें और Search Domain Bar में डोमेन को सर्च करें।

Step 2: डोमेन नेम सिलेक्ट कीजिए और “Add To Cart” पर क्लिक करें और फिर Continue पर क्लिक करें।

Step 3: डोमेन नेम कितनें साल के लिए चाहिए select करके  “Proceed To Checkout” पर क्लिक करें।

Step 4: Account Create करें।

Step 5: फिर Billing Information Form को भरकर payment के ऑप्शन को क्लिक करें।

Step 6: Payment Method को select करके payment करें।

नोट: Godaddy.com क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड/ATM Card, Net Banking, Wallets और UPI आदि Payment Methods को सपोर्ट करता है। 

6. क्या multiple Blogging के लिए एक ही domain name चलेगा या हर एक blog के लिए अलग domain name लेना पड़ेगा?

आपको ऐसे बहुत से ब्लॉग देखने को मिल जाएंगे एक ही domain name से multiple Blogging करते हैं।

लेकिन यहां हम आपको यही suggest करेंगे कि अगर आप नए ब्लॉगर हैं तो आप एक ही ब्लॉग को बनाकर उसमें अच्छे से work करें।

अगर आप एक से अधिक विषय पर ब्लॉग पोस्ट लिखना चाहते भी हैं तो आप अपने उसी ब्लॉगिंग साइट के अंदर उन विषयों के लिए अलग अलग कैटेगरी बना लें।

7. Adsense “.in” domain को approval देता है ?

जी हां। ये बिलकुल भी मायने नहीं रखता है कि आपके Domain का type कौन सा है। adsense सभी को approval प्रदान करता है।

8. Whois क्या है? | What is Whois in Hindi?

Whois एक Internet Service या online service है जिसकी सहायता से हम किसी भी डोमेन के संबंध में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

जैसे कि -: डोमेन किसके नाम पर रजिस्टर है, domain Owner की कान्टैक्ट इनफार्मेशन, डोमेन कब लिया गया और कब तक valid है, डोमेन किस देश में रजिस्टर है, डोमेन का नेमसर्वर और आईपी अड्रेस क्या है, इत्यादि। 

9. डोमेन नेम सिस्टम किसके द्वारा संभाला या मैनेज किया जाता है?

डोमेन नेम सिस्टम ICANN के द्वारा संभाला या मैनेज किया जाता है। आईए जानते हैं ICANN क्या है? ICANN की फुल फॉर्म “Internet Corporation for Assigned Names and Numbers” है।

ICANN एक गैर लाभकारी संगठन (non-profit organization) है, जिसकी स्थापना 1998 में अमेरिका में हुई। इसका काम डोमेन नेम या IP Address को मैनेज या assign करना और इंटरनेट की सुरक्षा बनाए रखना है।

निष्कर्ष

अगर आप ब्लॉगिंग में अपना करियर बनाना चाहते हैं तो आप अपने ब्लॉग के लिए डोमेन नेम को जरूर खरीदें।

चाहे आपका ब्लॉग वर्डप्रेस पर हो या फिर ब्लॉगर प्लेटफार्म पर दोनों ही स्थितियों में एक यूनिक डोमेन नाम आपके ब्लॉग को run करवाने में अहम भूमिका निभाता है।

आपकी सुविधा के लिए आज के आर्टिकल में हमने आपको Domain name क्या होता है, Domain name के प्रकार के साथ ही डोमेन नेम से संबंधित अन्य अनेक महत्वपूर्ण जानकारियां दी हैं।

अगर फिर भी आपके मन में डोमेन नेम से संबंधित कोई भी प्रश्न हो तो आप हमसे कॉमेंट बॉक्स में पूछ सकते हैं। हम आपके शकाओं का अवश्य समाधान करेंगे।

This Post Has One Comment

Leave a Reply